वेब होस्टिंग क्या है? और होस्टिंग के प्रकार

0
13
वेब होस्टिंग क्या है? और होस्टिंग के प्रकार

दोस्तों अगर आप एक वेबसाइट बनाना चाहते है तो आपको वेब होस्टिंग क्या है? यह जरूर पता होना चाहिए। इस पोस्ट में हम वेब होस्टिंग के बारे में जरुरी चीजे पढ़ेंगे।

वेब होस्टिंग क्या है?

एक वेबसाइट में काफी सारा डाटा होता है, जैसे फोटोज, टेक्स्ट, वीडियोस और फाइल्स जिनको मिलाकर एक संपूर्ण वेबसाइट बनती है। इस डाटा को हर वक़्त, हर जगह से देख पाने के लिए इसे इंटरनेट पर एक जगह की जरुरत होती है जिसे वेब सर्वर कहते है।

वेब सर्वर पर वेबसाइट रखने की जगह प्रदान करने वाली कंपनी को होस्टिंग प्रोवाइडर कहा जाता है, और वेब सर्वर पर वेबसाइट रखने, सम्पादित करने और अपडेट करने की सर्विस या सुविधा को वेब होस्टिंग कहा जाता है

वेब होस्टिंग हमें सर्वर पर हमारी वेबसाइट को डालने, एडिट करने और अपडेट करने के साथ साथ उसे मेन्टेन करने की सुविधा प्रदान करती है।

वेब होस्टिंग के प्रकार

ऊपर हमने वेब होस्टिंग क्या है यह पढ़ा, चलिए अब वेब होस्टिंग के प्रकार के बारे में जानते है। वैसे तो सभी वेबसाइट को सर्वर पर ही रखा जाता है, पर सर्वर की क्षमता और जसकी जगह के आधार पर वेब होस्टिंग के 4 मुख्या प्रकार है:

शेयर्ड होस्टिंग

शेयर्ड होस्टिंग - होस्टिंग के प्रकार
शेयर्ड होस्टिंग

शेयर्ड होस्टिंग में एक सर्वर एक से अधिक लोगो को दिया जाता है, जिसकी वजह से यह होस्टिंग काफी सस्ती होती है। इस होस्टिंग में जो सर्वर होता है उसमे सभी वेब साइट्स को रखा जाता है जो सर्वर स्पेस को शेयर करती है।

इस होस्टिंग में सर्वर की क्षमता को समानता से बांटा नहीं जाता, जिसकी वजह से किसी एक वेबसाइट पर लोड बढ़ने पर सर्वर पर उपस्थित सभी वेबसाइट पर लोड बढ़ जाएगा।

उदाहरण के तौर पर, मानलो शेयर्ड होस्टिंग में 10 वेबसाइट है जिनमे से हर एक वेबसाइट में ज्यादा से जयादा 10,000 लोग ही आ सकते है, पर एक दिन 10 में से 1 वेबसाइट में 1,00,000 लोग आ गए तो बाकिकी सभी 9 वेबसाइट डाउन हो जाएगी।

आप ऊपर दी हुई तस्वीर से शेयर्ड होस्टिंग की कार्यप्रणाली को समझ सकते है।

वि. पि. एस होस्टिंग

वि. पि. एस होस्टिंग - होस्टिंग के प्रकार
वि. पि. एस होस्टिंग

वि. पि. एस होस्टिंग याने वर्चुअल प्राइवेट सर्वर होस्टिंग में एक सर्वर के अंदर एक से अधिक छोटे छोटे वर्चुअल सर्वर बनाये जाते है, जिसकी वजह से सर्वर की जगह और पावर को एक सामान रूप से बांटा जाता है।

यह होस्टिंग शेयर्ड होस्टिंग से थोड़ी महंगी होती है। पर इस होस्टिंग में अगर मुख्या सर्वर के अंदर के किसी एक वर्चुअल सर्वर पर लोड बढ़ जाये, तो बाकी वर्चुअल सर्वर को कोई भी तकलीफ नहीं होती।

उदाहरण के तौर पर, अगर एक वर्चुअल होस्टिंग की क्षमता एक दिन में 10,000 लोगो की है और उस वेबसाइट में 11,000 लोग आजाये तो सिर्फ वही होस्टिंग डाउन होगी और सर्वर पर उपस्थित बाकी वर्चुअल सर्वर पर उस बात का कोई असर नहीं होगा।

वि. पि. एस होस्टिंग की कार्य प्रणाली को आप ऊपर दी हुई तस्वीर से समझ सकते है।

डेडिकेटेड होस्टिंग

डेडिकेटेड होस्टिंग - होस्टिंग के प्रकार
डेडिकेटेड होस्टिंग

डेडिकेटेड होस्टिंग में होस्टिंग प्रोवाइडर हमें एक संपूर्ण सर्वर दे देता है, इस सर्वर में सिर्फ हमारी ही वेबसाइट होती है। यह होस्टिंग वह लोग इस्तेमाल करते है जिन्हे सर्वर की पूरी क्षमता की जरुरत होती है, ताकि उनकी वेबसाइट कभी डाउन या बंद ना हो जाये।

डेडिकेटेड होस्टिंग काफी महंगी होती है, क्यों की पूरा सर्वर आपको दे दिया जाता है। इस होस्टिंग के दाम सर्वर की RAM और प्रोसेसिंग पावर पर आधारित होते है, जितनी ज्यादा RAM और प्रोसेसर उतना महंगा सर्वर।

आप ऊपर दी हुई तस्वीर से समझ सकते है के डेडिकेटेड होस्टिंग कैसे काम करती है।

क्लाउड होस्टिंग

क्लाउड होस्टिंग - होस्टिंग के प्रकार
क्लाउड होस्टिंग

क्लाउड होस्टिंग ऐसी होस्टिंग है जिसमे एक से अधिक सर्वर इस्तेमाल होते है, ताकि वेबसाइट को अच्छी स्पीड और अच्छी गुणवत्ता मिल सके। क्लाउड होस्टिंग में सभी सर्वर्स एक दूसरे से इंटरनेट के एक नेटवर्क के द्वारा जुड़े होते है जिसे क्लाउड कहा जाता है।

क्लाउड होस्टिंग में अगर वेब सर्वर की क्षमता कम भी हो फिर भी वेबसाइट पर लोड बढ़ने पर वह जुड़े हुए दूसरे सर्वर की प्रोसेसिंग पावर को इस्तेमाल कर के वेबसाइट के लोड को बैलेंस कर लेता है।

इसी कारन से क्लाउड होस्टिंग सबसे कारगर होस्टिंग है। सबसे कारगर होने के साथ साथ यह सबसे ज्यादा लोड संभालने वाली और सबसे महंगी होस्टिंग है। आप ऊपर दी हुई तस्वीर में देख सकते है के कैसे सभी सर्वर्स एक दूसरे के साथ मिलकर एक क्लाउड सर्वर नेटवर्क बना रहे है।

निष्कर्ष:

आशा करता हु आप होस्टिंग क्या है और होस्टिंग के प्रकार के बारे में दी हुई जानकारी से संतुष्ट होंगे। अगर आपको कोई प्रश्न है? या इस पोस्ट को बेहतर बनाने के लिए आपके कोई सुझाव है? तो निचे कमेंट कर के जरूर बताये।