ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? आवश्यकता, कार्य और प्रकार

0
7

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?

ऑपरेटिंग सिस्टम आपके कंप्यूटर का बोहोत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह कंप्यूटर के सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर में तालमेल बनाये रखता है और आपके कंप्यूटर में हो रही सभी प्रक्रियाओ को भी संभालता है।

ऑपरेटिंग सिस्टम आपको एक ग्राफिकल यूजर इंटरफ़ेस देता है, जिसकी मदत से आप कंप्यूटर को आसनीं से इस्तेमाल कर सकते है।

आप जो स्मार्टफ़ोन या मोबाइल फ़ोन इस्तेमाल करते है, उसमे भी ऑपरेटिंग सिस्टम होता है। बिना ऑपरेटिंग सिस्टम के आपका कंप्यूटर काम नहीं कर पाएगा।

ऑपरेटिंग सिस्टम की आवश्यकता

ऊपर आपने ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है यह जाना, चलिए अब इसकी आवश्यकता क्यों पड़ती है यह जानते है।

  • यह हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के बीच में ताल मेल बनाये रखने के लिए आवश्यक है।
  • अनावश्यक डिटेल्स को छुपा कर उपयोगकर्ता को सिर्फ जरुरी जानकारी दिखता है जिससे उपयोगकर्ता के लिए कंप्यूटर इस्तेमाल करना काफी आसान हो जाता है।
  • उपयोगकर्ता को समझने में काफी आसान इंटरफ़ेस देता है जिससे वो आसानी से कार्य कर सकता है।

 यह भी पढ़ें:

ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्य

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? आवश्यकता, कार्य और प्रकार

1. प्रक्रिया प्रबंधन (Process Management):

यह वर्त्तमान में प्रोसेसर द्वारा निष्पादित किये जा रहे कार्य को संभालता है। किसी भी प्रोसेस का निर्माण करता है, उसे डिलीट करता है, उसे एक क़तर में प्रोसेसिंग के लिए भेजता है और एक से ज्यादा प्रोसेस को एक साथ करने में प्रोसेसर की मदत करता है।

2. स्मृति प्रबंधन (Memory Management):

ऑपरेटिंग सिस्टम किसी भी प्रक्रिया (Process) के लिए मेमेरी को जरूरत के अनुसार आवंटित (Allocate) करता है और आवंटन रद्द (Deallocate) भी करता है।

3. फाइल प्रबंधन (File Management)

इसमें फाइल को बनाना, उसे डिलीट करना, उसे जगह प्रदान करना और स्टोरेज को संभालना शामिल हैशामिल है।

ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? आवश्यकता, कार्य और प्रकार

1. सिंगल यूजर (Single User OS):

  • यह ऑपरेटिंग सिस्टम एक वक़्त में सिर्फ एक ही उपयोगकर्ता को इस्तेमाल करने की अनुमति देता है।
  • इसे पर्सनल कंप्यूटर में इस्तेमाल किया जाता है।
  • MS DOS सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम है।

2. मल्टी यूजर (Multi User OS):

  • यह एक से ज्यादा उपयोगकर्ताओं को एक साथ कंप्यूटर इस्तेमाल करने की अनुमति देता है।
  • इसे कंप्यूटर नेटवर्क में इस्तेमाल किया जाता है जिसकी वजह से एक ही कंप्यूटर का डाटा कई लोग देख सकते है।
  • Unix, Linux और Windows Server मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम्स है।

3. मल्टीटास्किंग (Multitasking OS):

  • इसमें एक समय में एक से ज्यादा प्रोसेस की जा सकती है।
  • हम इसमें एक से ज्यादा एप्लीकेशन एक साथ इस्तेमाल कर सकते है।
  • मल्टीटास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम में Pre-emptive और Co-operative ऐसे दो प्रकार आते है।

4. रियल टाइम (Real Time OS):

  • इसे ऑपरेटिंग सिस्टम में किसी भी दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम के मुकाबले ज्यादा त्वरित और अनुमानित प्रतिक्रिया मिलती है।
  • पूर्व निर्धारित प्रक्रियाओं को करने के लिए इसे इस्तेमाल किया जाता है।

5. एम्बेडेड (Embedded OS):

  • ये किसी विशेष उपकरण के लिए बनाया जाता है और वो उस उपकरण के ROM में होता है।
  • ये डिज़ाइन के हिसाब से बहुत कॉम्पैक्ट और बेहद कुशल हैं।
  • Windows CE एक एम्बेडेड ऑपरेटिंग सिस्टम है।

6. टाइम शेयरिंग (Time Sharing OS):

  • यह ऐसा ऑपरेटिंग सिस्टम होता है जिसमे हर प्रक्रिया को एक साथ प्रोसेस होने के लिए थोड़ा थोड़ा टाइम दिया जाता है।
  • यह एक साथ एक से ज्यादा प्रोग्राम्स को कंप्यूटर के संसाधनों को साझा करने देता है।
  • HOC 3 टाइम शेयरिंग ऑपरेटिंग सिस्टम है।

7. बैच प्रोसेसिंग (Batch Processing OS):

  • इसमें बोहोत सी प्रक्रियाओं का ग्रुप बनाकर उस ग्रुप को प्रोसेस किया जाता है।
  • इसमें कामो को अनुक्रम के अनुसार बैच में प्रोसेस किया जाता है जिसे पिरयोडीकली प्रोसेसिंग ऑफ़ जॉब्स कहा जाता है।

8. डिस्ट्रिब्यूटेड (Distributed OS):

  • इस ऑपरेटिंग सिस्टम में डाटा को एक से ज्यादा जगहों में प्रोसेस और स्टोर किया जा सकता है।
  • यह स्वतंत्र कंप्यूटरों के एक समूह का संभालता है और उन्हें एक कंप्यूटर की तरह पेश करता है।
  • ये कई नियंत्रित प्रोसेसर्स को इस्तेमाल कर के कई वास्तविक समय में चल रही ऍप्लिकेशन्स को संभालता है।

9. मोबाइल (Mobile OS):

  • स्मार्ट फ़ोन्स, टेबलेट फ़ोन्स और डिजिटल फ़ोन्स के लिए इस्तेमाल होने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम को मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम कहते है।
  • इसमें एंड्राइड,सिम्बियन, आई ओ एस और ब्लैकबेरी शामिल है।

10. सर्वर साइट / नेटवर्क ( Server Site / Network OS):

  • इस ऑपरेटिंग सिस्टम में फाइल कार्य और प्रोसेस मैनेजमेंट का पूरा सेट होता है।
  • Windows Server, Unix और Linux सर्वर साइट ऑपरेटिंग सिस्टम है।