कंप्यूटर के प्रकार (Types of Computer)

0
49

​कंप्यूटर के ​​६ मुख्य प्रकार होते है, इस पोस्ट में हम उन सभी जरुरी कंप्यूटर के प्रकार के बारे में जानेंगे।

कंप्यूटर के प्रकार

​१. सुपर कंप्यूटर

सुपर कंप्यूटर

सुपरकंप्यूटर साधारण कंप्यूटर से अलग सबसे महंगे और तेज़ कंप्यूटर होते हैं। यह विशाल कंप्यूटर बहुत जटिल विज्ञान और इंजीनियरिंग की समस्याओं को हल करने के लिए इस्तेमाल होते है।

समानांतर प्रसंस्करण (Parallel Processing) का लाभ उठाकर सुपर कंप्यूटर अपनी प्रसंस्करण शक्ति (Processing Power) प्राप्त करते हैं; वे एक समस्या पर एक ही समय में प्रोसेसर का उपयोग पूरी तरह करते हैं, एक सुपर कंप्यूटर एक समय में दस लाख खरब गणना कर सकता है।

२. सर्वर कंप्यूटर

सर्वर कंप्यूटर

सर्वर कंप्यूटर सुपर कंप्यूटर से अलग है, सर्वर कंप्यूटर बहुत ही जटिल समस्याओ को हल करने के बजाय, बोहोत सी छोटी छोटी और सामान समस्याओ को हल करते है। उदाहरण के तौर पर आप किसी भी बड़ी वेबसाइट के कंप्यूटर को सर्वर कंप्यूटर कह सकते है।

उन कंप्यूटरों को आप वेबसाइट का जो पन्ना ढूंड रहे है उस पन्ने को ढूंड कर आपको भेजना होता है। सोचने के लिए यह बोहोत बड़ी बात नहीं है, पर यह काम सर्वर के लिए जटिल होता है, क्युकी उसे कंप्यूटर के बोहोत से पन्नो को बोहोत से लोगो के लिए ढूंडना होता है और उन्हें सही जगह भेजना होता है।

 यह भी पढ़े:

कुछ सर्वर, जैसे की गूगल इस्तेमाल करता है गूगल डाक्यूमेंट्स के लिए, इनमे फाइल्स के साथ साथ एप्लीकेशन्स भी होती है।

सर्वर मे बोहोत सारा डेटा और बोहोत सारे प्रोग्राम्स होते है। इसे नेटवर्क सर्वर भी कहा जाता है, यह सिस्टम सभी जुड़े हुए उपयोगकर्ताओ को डेटा भेजने या संगृहीत करने की अनुमति देता है। फ़ाइल सर्वर और एप्लीकेशन सर्वर ये सर्वर कंप्यूटर के दो महत्वपूर्ण प्रकार है।

३. वर्कस्टेशन कम्प्यूटर

वर्कस्टेशन कम्प्यूटर

वर्कस्टेशन उच्च प्रति के महेंगे कंप्यूटर होते है जो ज्यादा कठिन और जटिल कार्यो को करने के लिए इस्तेमाल होते है, यह कंप्यूटर एक समय एक उपयोगकरता के लिए होते है।

जटिल कामो में जैसे अभियांत्रिकी गणना करने के लिए इस कंप्यूटर का इस्तेमाल होता है। वर्कस्टेशन कंप्यूटर आम तौर पर बेचे नहीं जाते थे, पर अब यह बात बदल रही है और साधारण लोग भी इसे इस्तेमाल कर पा रहे है।

४. पर्सनल कंप्यूटर या पी.सी.

पर्सनल कंप्यूटर या पी.सी.

पी.सी. एक पर्सनल कंप्यूटर के लिए संक्षिप्त नाम है, इसे माइक्रो कंप्यूटर भी कहा जाता है। इसकी भौतिक विशेस्ताए और कम लागत आकर्षक हैं और ये उपयोगकर्ताओं के लिए उपयोगी हैं। इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर की शुरूआत के बाद से निजी कंप्यूटर की क्षमताओं में बहुत बदलाव आया है।

१९७० के दशक के शुरूआती वर्षों में, अकादमिक या अनुसंधान संस्थानों में लोगों को पर्सनल कंप्यूटर सिस्टम का इस्तेमाल करने का मौका मिला, फिर भी यह कंप्यूटर एक व्यक्ति के खरीदने के लिए बोहोत मेहेंगे थे।

माइक्रोप्रोसेसर के आजाने से, जो एक चिप था, जिस मे सारे सर्किट जो ज्यादा बड़े थे और मेहेंगे थे कम लगत में मिलने लगे, जिसकी वजह से १९७५ में पर्सनल कंप्यूटरों का प्रसार हुआ।

प्रारंभिक पर्सनल कंप्यूटर अक्सर किट फॉर्म में और सीमित मात्रा में बेचे जाते थे, और ज्यादातर शौकियों और तकनीशियनों के लिए बनाये जाते थे। १९७० के दशक के अंत तक बड़े पैमाने पर बाजार में बने-बनाये कंप्यूटर आन लगे, जिसकी वजह से लोग कंप्यूटरों को अपने निजी कामो के लिए इस्तेमाल करने लगे। सॉफ्टवेयर अनुप्रयोगों पर अधिक और प्रोसेसर हार्डवेयर के विकास पर कम ध्यान केंद्रित करके इन कंप्यूटर को कम कीमत में बनाया जाने लगा।

१९७० और १९८० के दशक के दौरान घरेलू कंप्यूटर घरेलू उपयोग के लिए विकसित किए गए थे, कुछ व्यक्तिगत उत्पादकता, प्रोग्रामिंग और गेम की पेशकश करते हुए, जबकि कुछ बड़े और अधिक महंगे सिस्टम (फिर भी मिनी कंप्यूटरों और मेनफ़्रेम कंप्यूटरों से सस्ते) कार्यालय और छोटे व्यवसाय के उपयोग के उद्देश्य से।

आज पी.सी. एक ऐसा उपकरण है जिसे आप गेमिंग के लिए, मीडिया सर्वर की तरह, अपने कामो को तेज़ी से करने और अपनी उत्पादकता बढ़ने के लिए इस्तेमाल कर सकते है। इस कंप्यूटर का मॉड्यूलर निर्माण करने की वजह से अगर इसका कोई हिस्सा ख़राब हो जाए या टूट जाए तो उसे आप आसानी से बदल या अपग्रेड कर सकते है।

५. माइक्रोकन्ट्रोलर

माइक्रो कन्ट्रोलर

माइक्रो कन्ट्रोलर मिनी कंप्यूटर हैं जो उपयोगकर्ता को डेटा संग्रहीत करने और सरल आदेश देने और कार्य निष्पादित करने की अनुमति देता है। इस सिंगल सर्किट डिवाइसेस में कम मेमोरी होती है, लेकिन ये जरुरी कार्य करने के लिए काफी होती है।

ऐसे कई सिस्टम जिनमे माइक्रो कंट्रोलर इस्तेमाल होता है उन्हें एम्बेडेड सिस्टम के रूप में जाना जाते है। आपकी कार का कंप्यूटर भी माइक्रो कंट्रोलर से बना है, और उसे एम्बेडेड सिस्टम कहा जाता है। उदाहरण के लिए एक आम माइक्रोकंट्रोलर “आर्डिनो” जिसे ज्यादातर लोग जानते है।

६. स्मार्टफ़ोन

स्मार्टफ़ोन

​क्या आपके पास एक स्मार्टफोन है? आपका स्मार्ट फोन एक कंप्यूटर है! अधिकांश स्मार्टफ़ोन आई.ओ.एस. या एंड्रॉइड चलाते हैं, एंड्रॉइड एक ऑपरेटिंग सिस्टम है जो लिनक्स पर आधारित है। स्मार्टफ़ोन तेजी से तेज़ होते जा रहे हैं और इसमें एक तेजी से बढ़ती डेटा क्षमता भी है।